Shop by Category
Hinduon Ka Hashra: Itihaas se Gaayab Ankahi kahaniyan (Bharat me Islam-1)

Hinduon Ka Hashra: Itihaas se Gaayab Ankahi kahaniyan (Bharat me Islam-1)

by   Vijay Manohar Tiwari (Author)  
by   Vijay Manohar Tiwari (Author)   (show less)
Sold By:   Garuda International
$19.00
This price includes Shipping and Handling charges

Short Description

लाहौर और दिल्ली पर तुर्क मुसलमानों के कब्जे के बाद बाकी भारत ने सदियों तक क्या कुछ भोगा-भुगता है, इसके बारे में इतिहास की किताबों में परदा डालकर रखा गया...

More Information

ISBN 13 9798885750264
Publishing Year 2022
Total Pages 240
Release Year 2022
Publishers Garuda Prakashan  
Category Indian History   Hinduism   Featured Books  
Weight 300.00 g
Dimension 22.00 x 14.00 x 2.00

Frequently Bought Together

This Item: Hinduon Ka Hashra: Itihaas se Gaayab Ankahi kahani...

$0.00


Sold by: Garuda International

$17.62


Sold By: Garuda Internation...

$17.02


Sold By: Garuda Internation...

Choose items to buy together

ADD TO CART

Book 1
Book 2
Book 2

This Item: Hinduon Ka Hashra: Itihaas se Gaayab Ankahi kahaniyan (Bharat me Islam-1)

Sold By: Garuda Internation...

$0.00

Unveiling the Mahabharata: As It Was Meant To Be

Sold By: Garuda Internation...

$17.02

Total Price : $0.00

Product Details

लाहौर और दिल्ली पर तुर्क मुसलमानों के कब्जे के बाद बाकी भारत ने सदियों तक क्या कुछ भोगा-भुगता है, इसके बारे में इतिहास की किताबों में परदा डालकर रखा गया। "भारत में इस्लाम” की इस रोंगटे खड़े कर देने वाली श्रृंखला में वही सत्य उजागर किया गया है, जो बीते आठ सौ सालों के दौरान समकालीन मुस्लिम लेखकों ने दस्तावेजों में दर्ज किया । इस भाग में आप देखेंगे कि किस तरह दिल्ली पर काबिज होते ही तुर्क मुसलमानों ने हिंदुओं के सफाए के इरादे जाहिर किए थे। आलिमों और सूफियों ने कैसे हिंदुओं के कठोर दमन के दिशा-निर्देश तैयार किए थे। बदकिस्मती से आजाद भारत के इतिहासकारों ने भारत में इस्लाम के फैलाव की इस घृणित सच्चाई को छुपा कर रखा। लेखक का मानना है कि मध्यकाल के इतिहास में सल्तनत और मुगलकाल जैसे कोई कालखंड नहीं हैं। वह अपने समय के दुर्दात आतंकियों और अपराधियों का इतिहास है, जो दिल्ली को अपना अड्डा बनाकर बैठ गए थे...

whatsapp